साल का आखिरी चंद्र ग्रहण कब है जाने इसका प्रभाव

साल का आखिरी चंद्र ग्रहण कब है जाने इसका प्रभाव

  पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है। जब पृथ्वी चंद्रमा और सूर्य के बीच आ जाती है तो चंद्रमा पृथ्वी की छाया में छिप जाता है और दिखाई नहीं देता। ऐसे में जब हम चंद्रमा को देखने की कोशिश करते हैं तो वह दिखाई नहीं देता या फिर काला दिखाई देता है। इसी स्थिति को ज्योतिष में च्रद्रग्रहण कहा गया है।

 2021 का दूसरा और आखिरी चंद्र  ग्रहण 19 नवंबर 2021 को लगेगा। यह उपछाया चंद्र ग्रहण होगा। हिंदू पंचांग के अनुसार, साल का आखिरी चंद्र ग्रहण कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को लगेगा। चंद्र ग्रहण का धार्मिक दृष्टि से खास महत्व है। इस ग्रहण को भारत समेत अमेरिका, उत्तरी यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और पूर्वी एशिया के कुछ हिस्सों में देखा जा सकेगा।

 जब भी ग्रहण की स्थिति बनती है तो इसे शुभ नहीं माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र ग्रहण को एक अशुभ घटना के तौर पर देखा जाता है। 'ग्रहण योग' को ज्योतिष शास्त्र में एक अशुभ योग माना गया है। इस योग का निर्माण तब होता है जब राहु और केतु जब चंद्रमा या सूर्य के साथ युति बनाते हैं । 


साल का आखिरी चंद्र ग्रहण कब है जाने इसका प्रभाव




 19 नवंबर को लगने जा रहा है 'चंद्र ग्रहण'

 वर्ष 2021 में लगने वाला आखिरी चंद्र ग्रहण विशेष माना जा रहा है। साल का आखिरी चंद्र 19 नबंवर 2021 को लगने जा रहा है। पंचांग के अनुसार इस दिन चंद्रमा, वृषभ राशि में विराजमान रहेगा.



 चंद्रमा है मन का कारक

 ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्रमा को मन का कारक माना गया है. विज्ञान के अनुसार चंद्रमा पृथ्वी के नजदीक है। चंद्रमा,पृथ्वी का एक उपग्रह है। चंद्रमा को पृथ्वी की 1 परिक्रमा पूर्ण करने में लगभग 27 दिन और 8 घंटे का समय लगता है। चंद्रमा जब अशुभ होता है या फिर इस पर ग्रहण की स्थिति बनती है तो व्यक्ति को मानसिक तनाव, भ्रम, स्मरण शक्ति कमजोर होती है। 



 उपछाया ग्रहण

 ग्रहण के समय सूतक का विशेष ध्यान रखा जाता है. विशेष बात ये है कि नवंबर 2021 में लगने वाला चंद्र ग्रहण उपछाया ग्रहण है। जिस के कारण सूतक काल प्रभावी नहीं होगा। सूतक नियमों का पालन तभी किया जाता है जब पूर्ण ग्रहण लगता है। साल के आखिरी चंद्र ग्रहण को पेनुमब्रल भी कहा जा रहा है.



 चंद्र ग्रहण का समय

 पंचांग के अनुसार 19 नबंवर को लगभग 11 बजकर 30 मिनट पर चंद्र ग्रहण लगेगा और शाम 05 बजकर 33 मिनट पर ग्रहण समाप्त होगा. मान्यता है कि ग्रहण के दौरान यात्रा आदि करने से बचना चाहिए, विवाद और कलह से दूर रहना चाहिए, इसके साथ ही गर्भवती महिला और बच्चों को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए. ग्रहण के समय भगवान का स्मरण और भजन करना चाहिए। 

No comments: