भगवान कृष्ण को बाँसुरी कैसे मिली

भगवान कृष्ण को बाँसुरी कैसे मिली

 आज के आर्टिकल में हम जानेंगे भगवान कृष्ण को बाँसुरी कैसे मिली

भगवान कृष्ण को बाँसुरी कैसे मिली

बांसुरी ब्रह्मा की मानस पुत्री सरस्वती मानी गई हैं और वह कान्हा को कई जन्मों तक पाने के लिए तपस्या करती थी और यही कारण है कि कृष्ण जी उस बांसुरी को हमेशा अपने होंठों से लगा कर रखते थे।


भादो की अष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ और उनके जन्मोत्सव को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाने लगा। भगवान श्रीकृष्ण की पूजा कई रूपों में होती है। बालरूप भगवान का जहां वात्सल्य से भरा है, वहीं उनका यौवन प्रेम और समर्ण के साथ न्यायविद के रूप में भी जाना जाता है। 

भगवान का हर रूप मनमोहक रहा है और यही कारण है कि उन्हें जो भी मिला उनका प्रेमी हो गया। इस प्रेम में भगवान को कई लोगों ने ऐसे उपहार भी दिए, जिसे भगवान कभी खुद से अलग नहीं किए।

 भागवत, पद्मपुराण, ब्रह्मवैवर्तपुराण, गर्ग संहिता जैसे ग्रंथों में में इन उपहारों का जिक्र मिलता है। तो आइए जानें कि भगवान कृष्ण को बाँसुरी कैसे मिली


द्वापर युग के समय जब भगवान श्री कृष्ण ने धरती में जन्म लिया तब देवी-देवता वेश बदलकर समय-समय पर उनसे मिलने धरती पर आने लगे। इस दौड़ में भगवान शिव जी कहां पीछे रहने वाले थे, अपने प्रिय भगवान से मिलने के लिए वह भी धरती पर आने के लिए उत्सुक हुए। 

 

परंतु वह यह सोच कर कुछ क्षण के लिए रुके की यदि वे श्री कृष्ण से मिलने जा रहे हैं तो उन्हें कुछ उपहार भी अपने साथ ले जाना चाहिए। अब वे यह सोच कर परेशान होने लगे कि ऐसा कौन सा उपहार ले जाना चाहिए जो भगवान श्री कृष्ण को प्रिय भी लगे और वह हमेशा उनके साथ रहे। 

भगवान कृष्ण को बाँसुरी कैसे मिली


 

तभी शिव जी को याद आया कि उनके पास ऋषि दधीचि की महाशक्तिशाली हड्डी पड़ी है। ऋषि दधीचि वही महान ऋषि है जिन्होंने धर्म के लिए अपने शरीर को त्याग दिया था व अपनी शक्तिशाली शरीर की सभी हड्डियां दान कर दी थी। उन हड्डियों की सहायता से विश्कर्मा ने तीन धनुष पिनाक, गांडीव, शारंग तथा इंद्र के लिए व्रज का निर्माण किया था।


शिव जी​ ने उस हड्डी को घिसकर एक सुंदर एवं मनोहर बांसुरी का निर्माण किया। जब शिव जी भगवान श्री कृष्ण से मिलने गोकुल पहुंचे तो उन्होंने श्री कृष्ण को भेट स्वरूप वह बंसी प्रदान की। उन्हें आशीर्वाद दिया तभी से भगवान श्री कृष्ण उस बांसुरी को अपने पास रखते हैं।



इस तरह भगवान कृष्ण को बाँसुरी भेंट में मिली

About the article

यहाँ आपने जाना भगवान कृष्ण को बाँसुरी कैसे मिली। मुझे उम्मीद है आपको ये ब्लॉग पसंद आया होगा। ऐसी ही कहानियाँ जानने के लिए हमारे ब्लॉग से जुड़े रहे। 

धन्यवाद आपका कीमती समय देने के लिए


No comments: