ये दुनिया किसने बनाई- Who Created this Universe

ये दुनिया किसने बनाई- Who Created this Universe



स्वामी विवेकानंद जी का नाम तो हर कोई जानता है एक बार की बात है स्वामी जी तब उम्र में छोटे हुआ करते थे । 
वह हर रोज भगवान का नाम लेते थे भगवान के भजन गाते थे यह सब करते हुए उनके पिता ने उनको देख लिया उनके पिता ने उनसे कहा कि तुम फालतू की चीज़े क्यों करते रहते हो।

                                                      

                                                           

यहाँ कोई ईश्वर नही है यह सृष्टि गति और गर्मी का परिणाम है सृष्टि स्वयं बनी है इसे किसी ने बनाया नही है स्वामी विवेकानंद जी सोचने लगे कि किस तरह अपने पिता को समझाया जाए। 



स्वामी विवेकानंद जी ने एक बड़ा सा कागज लिया और उसमे सुंदर चित्र बना दिया जहाँ उनके पिता सोया करते थे जब उनके पिता ने वह चित्र देखा तो वह स्वामी जी से पूछने लगे यह चित्र किसने बनाया?

 यह तो बहुत ज्यादा सुंदर लगता है स्वामी जी ने उत्तर दिया किसी ने नही बनाया "यह तो अपने आप ही बन गया" तभी उनके पिता बोले ऐसा नही हो सकता यह चित्र अपने आप भला कैसे बन सकता है। 

तभी स्वामी जी बोले कागज में अपने आप उष्णता और गति आई फिर ये कागज अपने आप मेज पर आया एक अलमारी में रंग भी पड़े थे उन्हे भी गर्मी लगी और उनमें शक्ति आ गयी वह खुद अलमारी से निकले और कागज पर गिर पड़े उसके उपर फैल गए और चित्र बन गए। 

पिता बोले नही जरूर इसे बनाने वाला भी कोई होगा यह अपने आप बनना नामुमकिन है तब स्वामी विवेकानंद बोले 'क्यों नही बन सकती यह तस्वीर खुद' अगर इतनी बड़ी दुनिया खुद  बन सकती तो यह तस्वीर तो मामूली चीज है। तभी स्वामी जी के पिता यह बात अच्छी तरह से समझ गए। 

No comments: