भगवान विष्णु और शिव के प्रेम की कहानी

भगवान विष्णु और शिव के प्रेम की कहानी

एक बार बार भगवान विष्णु  आराम से सोए हुए थे। उन्होंने अपने सपने में देखा कि स्वयं भगवान शंकर उनके नाम सामने नृत्य कर रहे हैं। तभी भगवान विष्णु अचानक उठ कर बैठ गए। उन्हें इस प्रकार बैठा देख लक्ष्मी मां ने पूछा है नारायण आप अचानक उठकर क्यों बैठ गए भगवान ने कोई उत्तर नहीं दिया और आनंद में खो गए। थोड़ी देर बाद उत्तर दिया और कहा देवी मैंने स्वपन में भगवान शिव को देखा। उनको स्वपन में देखकर मैं आनंदमय हो गया। क्यों ना हम कैलाश पर्वत चले और शिव शंकर के दर्शन करें। फिर दोनों की  कैलाश पर्वत की ओर चल पड़े। भगवान विष्णु आधे रास्ते पर ही थे वहीं उन्हें भगवान शिव मिल गए।