जब एक बूढ़ी औरत ने भगवान गणेश को ठग लिया

जब एक बूढ़ी औरत ने भगवान गणेश को ठग लिया

एक गांव में एक बूढ़ी अंधी औरत रहती थी। वह भगवान गणेश की बहुत बड़ी भगत थी। वह गणेश भगवान की पूजा अर्चना में अपना जीवन व्यतीत करती थी। गणेश भगवान सोचते थे कि यह औरत मेरी इतनी पूजा करती है परंतु कुछ नहीं मांगती। एक दिन भगवान गणेश वहां प्रकट हो गये। उन्होंने उस बूढ़ी औरत को वरदान मांगने को कहा l
पर शर्त यह थी कि वह एक ही वरदान मांग सकती थी। बूढ़ी औरत ने कहा, मैं आपको कल सोच कर बताऊंगी। औरत के घर में उसका बेटा और बहू रहते थे। बेटे ने कहा, मां तू पैसा मांग ले और माता ने कुछ देर सोचा और उसे कुछ समझ नहीं आया। बूढ़ी औरत की एक सहेली थी।

 उसने कहा, संसार में सभी सुख मांग ले बूढ़ी औरत को लगा कुछ ऐसा मांगो जिससे सभी इच्छाएं पूरी हो जाए। उसने अपना दिमाग चलाया। अगले दिन भगवान गणेश प्रकट हो गए। 
बूढ़ी औरत ने कहा मुझे अपने पोते को सोने के झूले में झूलते हुए देखना है।
गणेश भगवान ने कहा, मां तुमने मुझे ठग लिया पोता होगा तो उसे देखने के लिए आंखें भी चाहिए। सोने का झूला मतलब धन भी होगा। गणेश भगवान ने कहा, जो भी तुमने कहा है, वह सत्य हो, फिर बूढ़ी औरत ने अपना जीवन शांति से जिया।

No comments: